Home » मुख्य समाचार » यूपीए की साख पर बट्टा, जनता की पसंद बने नरेंद्र मोदी

यूपीए की साख पर बट्टा, जनता की पसंद बने नरेंद्र मोदी

केंद्र की सत्ता पर आठ साल काबिज रहने के बाद कांग्रेस के नेतृत्व वाले संयुक्त प्रगतिशील गठबंधन का जनाधार खिसक रहा है और लोगों का झुकाव मुख्य विपक्षी दल भाजपा की ओर बढ़ रहा है। यह बात एबीपी न्यूज-निलसन के एक सर्वेक्षण की रिपोर्ट में सामने आई है। संप्रग-दो 22 मई यानी मंगलवार को अपने गठन के तीन साल पूरे करने जा रहा है।

इस सर्वे में सबसे चौकानें वाली बात ये रही ‌कि प्रधानमंत्री पद के ल‌िए गुजरात के मुख्यमंत्री नरेंद्र मोदी न सिर्फ सबसे पसंदीदा उम्मीदवार के तौर पर उभरे हैं, बल्कि मौजूदा प्रधानमंत्री मनमोहन सिंह और कांग्रेस के युवराज राहुल गांधी को भी पीछे धकेल दिया है।

राहुल से 4 फीसदी अधिक जनता की पसंद मोदी
मोदी को मनमोहन सिंह के मुकाबले एक फीसदी अधिक जनता देश का अगला प्रधानमंत्री देखना चाहती है, जबकि साल 2011 में प्रधानमंत्री के सबसे पसंदीदा उम्मीदवार रहे राहुल गांधी से भी मोदी चार फीसदी अधिक जनता की पसंद बन गए हैं। सर्वे के मुताबिक नरेंद्र मोदी को 17 फीसदी जनता देश का अगला प्रधानमंत्री देखना चाहती है, जबकि 16 फीसदी जनता की पसंद मौजूदा प्रधानमंत्री मनमोहन सिंह हैं। कांग्रेस के युवराज राहुल गांधी को अब महज़ 13 फीसदी जनता बतौर प्रधानमंत्री देखना चाहती है। यानी जनता के बीच नरेंद्र मोदी ने प्रधानमंत्री के संभावित उम्मीदवार के तौर अपनी स्थिति मजबूत की है।

जनता की पसंद से उतरे मनमोहन
पिछले साल के सर्वे में देश के बेहतरीन नेताओं की सूची में नरेंद्र मोदी जनता का 12 फीसदी समर्थन पाकर चौथे स्थान पर रहे थे, लेकिन इस बार 17 फीसदी का समर्थन पाकर तीन पायेदान ऊपर चढ़कर पहले स्थान पर पहुंच गए हैं। मनमोहन सिंह जो इस बार 16 फीसदी जनता का समर्थन पाकर दूसरे स्थान पर रहे हैं, पिछले साल 21 फीसदी जनता के समर्थन के साथ पहले स्थान पर रहे थे। राहुल गांधी जो पिछले साल जनता का 19 फीसदी समर्थन पाकर दूसरे स्थान पर थे, इस बार उनके लोकप्रियता का ग्राफ़ काफी नीचे गिर गया है और महज़ 13 फीसदी जनता का ही समर्थन पा सके और दो पायदान नीचे खिसक कर तीसरे स्थान पर पहुंच गए हैं।

सोनिया गांधी की लोकप्रियता में ग‌िरावट
सर्वेक्षण में यह भी खुलासा हुआ है कि संप्रग की अध्यक्ष सोनिया गांधी की लोकप्रियता 14 फीसदी से घटकर महज नौ फीसदी तक सिमट गई है। यह सर्वेक्षण देश के 28 शहरों में अप्रैल और मई की शुरुआत में कराया गया। इसमें खुलासा हुआ है कि यदि अभी लोकसभा चुनाव हो तो भाजपा को 28 फीसदी मत मिलेंगे, जबकि कांग्रेस केवल 20 फीसदी मत हासिल कर पाएगी। ज्ञात हो कि अगला आम चुनाव दो साल बाद यानी 2014 में होना है।

One Response

  1. admin says:

    good Mr.Modi Ji

Leave a Reply

© 2012 lucknowsatta.com · RSS · Designed by TIV Labs